स्मार्ट खेती कृषि क्षेत्र में कैसे बदलाव ला सकती है?

स्मार्ट खेती पारंपरिक खेती में तरह-तरह की तकनीकियों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करती है स्मार्ट खेती पारंपरिक खेती में तरह-तरह की तकनीकियों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करती है

प्राचीन काल से ही खेती करने का चलन है। पहले, यह एक श्रमसाध्य कार्य हुआ करता था जिसमें बहुत समय और प्रयास की जरुरत होती थी। लेकिन आज के समय में खेती स्मार्ट हो रही है। किसानों के नई तकनीकों में रुचि दिखाने के साथ यह कहा जा सकता है कि स्मार्ट खेती कृषि क्षेत्र का भविष्य है। आइए इसके बारे में और जानें।

स्मार्ट खेती क्या है?

स्मार्ट खेती खाद्य उत्पादन प्रक्रियाओं को अनुकूलित करने के लिए की जाती है। यह पारंपरिक खेती में तरह-तरह की तकनीकियों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करती है। रिमोट सेंसिंग, रोबोटिक्स और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसी तकनीकों की मदद से स्मार्ट खेती से उत्पादकता और उसकी गुणवत्ता में वृद्धि लाई जा सकती है। साथ ही, फसलों के नुक्सान को कम करा जा सकता है। देखा जाए तो कृषि क्षेत्र से सम्बंधित सभी वैश्विक समस्याओं का समाधान स्मार्ट खेती ही है।

स्मार्ट खेती के लाभ

उपभोक्ताओं की मांगों को पूरा करना-

उपभोक्ताओं की मांगें और प्राथमिकताएं बदलती रहती हैं। आज के समय में लोग अपने स्वास्थ्य को लेकर ज्यादा सतर्क हैं। वे चाहते हैं कि उन्हें उनके आस-पास की दुकानों और बाजारों में ही ताजा फल, सब्जियां और खाने का सामान प्राप्त हो जाए। हालांकि, स्मार्ट खेती की मदद से ऐसा संभव हो सकता है।

मानवीय श्रम की बचत करना-

मजदूरों की कमी या उन पर लगने वाली 50% लागत जैसी समस्याओं को स्मार्ट खेती से दूर किया जा सकता है। स्मार्ट तरीके से की जाने वाली खेती जैसे कि टेक्नोलॉजी की मदद से बीज बोना, कटाई करना या फसलों पर निगरानी रखने से मजदूरों को रखने की आवश्यकता कम हो जाती है।

पर्यावरण के अनुकूल खेती करना-

परंपरागत रूप से, किसान अपनी फसलों के लिए उर्वरक, कीटनाशक और पानी का इस्तेमाल अपने हिसाब से कर रहे है। हालांकि इस तरीके में कृषि आदानों के नुक्सान होने की काफी संभावना है। स्मार्ट खेती बड़ी सटीकता के साथ किसानों को यह बता सकती है कि असल में इनकी कितनी मात्रा इस्तेमाल की जानी चाहिए।

स्मार्ट खेती में इस्तेमाल होने वाली टेक्नोलॉजी

  • मिट्टी की गुणवत्ता को स्कैन और प्रकाश, पानी, आर्द्रता और आवश्यक तापमान की सटीक मात्रा निर्धारित करने के लिए सेंसर
  • दूरसंचार प्रौद्योगिकियां जैसे एडवांस नेटवर्किंग और GPS
  • डेटा, स्मार्ट खेती का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। मिट्टी की मैपिंग, मौसम, जलवायु परिवर्तन, फसल की पैदावार और मशीनरी से संबंधित डेटा हमेशा बदलता रहता हैं। डेटा एनालिटिक्स टूल खेती से सम्बंधित निर्णय लेने और सटीक प्रक्रियाओं के लिए आवश्यक होते है।
  • खेतों से पूरे दिन का डेटा इकट्ठा करने के लिए सैटेलाइट और ड्रोन। इस सूचना को एकत्रित करके आईटी डिपार्टमेंट को भेजा जाता है जिससे कि डेटा का विश्लेषण किया जा सके। साथ ही, ट्रैक किया जा सके।

भारतीय कृषि में स्मार्ट खेती का भविष्य

जब कृषि उपज की गुणवत्ता और मात्रा बढ़ाने की बात आती है तो स्मार्ट खेती काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। वर्तमान समय के किसानों के पास जीपीएस, सेंसर, डेटा एनालिटिक्स टूल और कई आधुनिक तकनीकों तक की पहुंच है। जिसकी मदद से वे खेती की प्रभावशीलता को बढ़ा सकते हैं और कीटनाशकों और उर्वरकों का उपयोग कम कर सकते हैं।

भारत के लिए किसानों की स्थिति में सुधार और उनकी आय बढ़ाने के लिए स्मार्ट खेती को अपनाने की अत्यंत आवश्यकता है। टेक्नोलॉजी से प्रभावित इस खेती से फसलों की उत्पादकता को भी बढ़ाया जा सकता है। उत्पादन के बाद इन फसलों को मार्किट यार्ड या मंडियों में लाया जाता है और नीलामी के लिए तैयार किया जाता है। मंडी में आढ़तिया इनकी नीलामी आयोजित करते हैं और अंत में संभावित खरीदारों को बेचते हैं। इन लेन-देन का हिसाब रखने और रोजाना मंडी जाने के बजाए कहीं से भी अपने कारोबार पर नजर रखने के लिए भारत की नंबर 1 एग्रीटेक कंपनी बीजक लाई है चार्ज ERP

चार्ज ERP, भारत की नंबर 1 एग्री-ट्रेडिंग एप, बीजक द्वारा तैयार किया गया एक समाधान है। यह कृषि व्यापारियों जैसे कि कमीशन एजेंटों के लिए बनाया गया क्लाउड-आधारित एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है। इसकी मदद से मंडी एकाउंटिंग में लगने वाले समय को लगभग 90% तक कम किया जा सकता है। इसके कुछ प्रमुख लाभ हैं:

  • कहीं से भी इस्तेमाल करें
  • डेटा पर 100% नियंत्रण रखें
  • डेटा की सुरक्षा की गारंटी
  • टीम को कहीं भी बैठे मैनेज करें
  • क्षेत्रीय भाषा का सहयोग पाएं
  • किसी भी डिवाइस से इस्तेमाल करें
  • इंवेटरी आसानी से मैनेज करें
  • व्हाट्सएप पर रिपोर्ट शेयर करें
  • छह तरह की विस्तृत रिपोर्ट निकालें
  • बिल और रिपोर्ट आसानी से डाउनलोड करें

चार्ज ERP भारत का सबसे तेज़, आसान और सुरक्षित मंडी एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है जो कि कमीशन एजेंट की सभी जरूरतों को पूरा करता है। यह सॉफ्टवेयर भारत की नंबर 1 एग्रीट्रेडिंग ऐप बीजक की पेशकश है। डेमो बुक करने के लिए के लिए आप www.chargeerp.com पर लॉग इन करें या फिर +91 9311341199 पर कॉल करें| अधिक जानकारी के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को फॉलो करें। आप चाहें तो हमारे यूट्यूब चैनल पर चार्ज ERP के वीडियो भी देख सकते हैं।