हफ्ते की 10 बड़ी खबरें (9 अक्टूबर से 15 अक्टूबर)

Weekly round-up of the top 10 news Weekly round-up of the top 10 news

क्या आप जानते हैं कि हमारे देश के कृषि क्षेत्र में आजकल क्या हो रहा है? हम आपके लिए 10 प्रमुख ख़बरों का साप्ताहिक राउंड-अप लेकर आए हैं।

1. केरल मसाला बोर्ड ने किसानों के लिए गुणवत्ता सुधार प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू किए

निर्यात अस्वीकृति से बचने के लिए, केरल मसाला बोर्ड ने किसानों के लिए एक गुणवत्ता सुधार प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू किया है। यह कार्यक्रम उन्हें उनकी फसलों के लिए खतरनाक रसायनों से बचने की जानकारी देगा। सूत्रों के मुताबिक कुछ समय पहले भी राज्य में फसलों के रिजेक्शन के मामले सामने आएं हैं। हालांकि, बोर्ड के अधिकारी, किसानों को इस कठिनाई से निकालने के लिए काफी समय से कोशिश कर रहे थे। यहां और पढ़ें

2. उच्च ईंधन दरों के कारण दिल्ली में सब्जियों की कीमतों में वृद्धि

दिल्ली के थोक और रिटेल बाजारों में टमाटर और प्याज़ जैसी सब्जियों के दाम बढ़ गए हैं। यह कर्नाटक और महाराष्ट्र में भारी वर्षा और ईंधन दरों के बढ़ने के कारण हुआ है। व्यापारियों का कहना है कि थोक की सब्जियों के मूल्य में ₹10-₹15 प्रति किलोग्राम के बीच की वृद्धि हुई है। जबकि रिटेल बाजार में इनका मूल्य लगभग ₹15- ₹20 प्रति किलोग्राम बढ़ा है। व्यापारियों ने यह भी संकेत दिया है कि भविष्य में इन सब्जियों के दाम और भी बढ़ सकते हैं। यहां और पढ़ें।

3. आयात शुल्क कम होने से कुकिंग ऑयल की कीमतों में गिरावट

सरकार ने कहा है कि विश्व भर में कुकिंग ऑयल की कीमतें बढ़ने के बावजूद भारत में इसकी थोक की कीमत में गिरावट आई है। यह कच्चे और रिफाइंड खाद्य तेलों पर आयात शुल्क कम करने की वजह से हुआ है। खाद्य तेलों की अंतरराष्ट्रीय कीमतें 1.95% से 7.17% के बीच बढ़ी हैं। हालांकि, घरेलू रिटेल कीमतें 0.22% से 1.83% की रेंज में घटी हैं। यहां और पढ़ें

4. 2021-22 में कपास की कीमतें एमएसपी से काफी ऊपर रह सकती हैं

कोविड -19 के बाद की मांग में बढ़ोतरी के कारण सरकार ने कपास के न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) को 2021-22 वर्ष के लिए बढ़ा दिया है। कपास की बढ़ी कीमतें ना ही सिर्फ निर्यात बजट में कटौती करेंगी बल्कि केंद्र सरकार के प्रोक्योरमेंट बजट को भी कम करेंगी। वर्तमान में कपास की कीमतें एमएसपी (MSP) से लगभग 30% से 40% अधिक हैं। यहां और पढ़ें

5. कैबिनेट ने रबी सीजन के लिए ₹28,655 करोड़ उर्वरक सब्सिडी को मंजूरी दी

केंद्र ने अक्टूबर 2021 से मार्च 2022 तक के रबी सीजन के लिए ₹28,655 करोड़ उर्वरक सब्सिडी को मंजूरी दी है। आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति (सीसीईए) ने 12 अक्टूबर को फॉस्फेटिक और पोटेशियम उर्वरकों के लिए नई पोषक तत्व पर आधारित सब्सिडी दरें पेश की हैं। किसानों को बाज़ार के दामों से कम दामों में सामान बेचने पर उर्वरक कंपनियों को मुआवजे के रूप में सब्सिडी दी जाएगी। यहां और पढ़ें

6.  प्राकृतिक खेती ने हिमाचल प्रदेश के सेब उत्पादकों को बढ़ावा दिया

राज्य परियोजना कार्यान्वयन इकाई के अनुसार, हिमाचल प्रदेश में कुल 1,33,056 किसान प्राकृतिक खेती कर रहे हैं। जिनमें से 12,000 सेब की बागवानी में शामिल हैं। एक सेब उत्पादक शकुंतला शर्मा ने प्राकृतिक परिस्थितियों में उगाए गए सेब के लिए ₹100 प्रति किलोग्राम से अधिक की रिकॉर्ड कीमत प्राप्त की है। इसके अलावा, एक अन्य उत्पादक ने तमिलनाडु, गुजरात और कर्नाटक जैसे राज्यों में 25 किलो का एक सेब का डिब्बा ₹4,200-₹4,500  में बेचा है। यहां और पढ़ें

7. चीनी कंपनियों की आय में 5-7% बढ़ोतरी होने की संभावना

2021-22 में घरेलू और वैश्विक कीमतों के स्थिर होने के कारण चीनी कंपनियों की आय में 5-7% बढ़ोतरी होने की संभावना है। इस उछाल की वजह चीनी निर्यात और इथेनॉल की बढ़ती हुई मात्रा भी होगी। इस पर अधिक जानकारी देते हुए ICRA के वरिष्ठ उपाध्यक्ष और समूह प्रमुख ने कहा है कि सुक्रोज के इथेनॉल में इस्तेमाल होने की वजह से इथेनॉल की आपूर्ति में भी तेजी आने की संभावना है। यहां और पढ़ें

8.  सरकार किसानों को 8.20 लाख मुफ्त हाइब्रिड बीज मिनी किट बांटेगी

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा शुरू किए गए एक विशेष कार्यक्रम के तहत पूरे देश में 8,20,600 हाइब्रिड बीज मिनी किट बांटी जाएंगी। ये सभी किट देश के 15 प्रमुख उत्पादक राज्यों के 343 जिलों में नि:शुल्क दी जाएंगी। यह कार्यक्रम फसलों की उत्पादकता को बढ़ाने और किसानों की आय बढ़ाने के लिए शुरू किया गया है। यहां और पढ़ें

9. आंध्र प्रदेश में कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए 10750 हायरिंग सेंटर शुरू

कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए आंध्र सरकार राज्य भर में 10,750 हायरिंग सेंटर शुरू करेगी। 2,133 करोड़ की लागत वाले इन केन्द्रों में रायथू भरोसा केंद्र भी जोढ़े जाएंगे। राज्य सरकार प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में 175 हाई-टेक हब स्थापित करेगी। यह कार्यक्रम वाईएसआर फार्म मैकेनिज्म सर्विस स्कीम के तहत किया जाएगा। यहां और पढ़ें

10. चार्ज ERP ने प्याज़ में ट्रेड करने वाले कमीशन एजेंट के लिए नया फीचर जोड़ा

भारत का सबसे आसान, तेज़ और सुरक्षित मंडी एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर, चार्ज ERP  अपने प्लेटफॉर्म पर लगातार नई सुविधाएं जोड़ रहा है। हाल ही में, उन्होंने ‘बैकअप एंड रिस्टोर’ विकल्प, ‘इन्वेंटरी’ पेज और ‘हफ्ते का बिजनेस’ विकल्प जोड़ा हैं। इन सभी बदलावों में एक ‘मन’ इकाई का जुड़ना भी है जो कि ख़ासकर प्याज़ में व्यापार कर रहे कमीशन एजेंट के लिए जोड़ा गया है। एक ‘मन’ 40 किलोग्राम के बराबर होता है। इसके अलावा, ग्राहकों और सप्लायरों के खातो में एक स्पेशल कोड जोड़ने का प्रावधान पेश किया गया है जिससे आढ़तिये किसी भी पेज पर उस कोड को खोज सकें।

अधिक जानकारी और अपडेट के लिए उनके यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें या ‘फेसबुक‘ और ‘ब्लॉग‘ पेज को फॉलो करें। अपना फ्री डेमो बुक करने के लिए  +91 9311341199 पर कॉल करें या वेबसाइट www.chargeerp.com  विज़िट करें।